09 July, 2016

नक्षत्रों के वृक्ष

अपने नक्षत्र के अनुकूल वृक्ष लगाने से, उस वृक्ष की पूजा करने से अथवा उनमें पानी देने से, उनकी परिक्रमा करने, इनका प्रतिदिन दर्शन करने से नक्षत्र जनित दोष दूर होते हैं एवं भाग्य में वृद्धि होती है ।
1. अश्विनी : केला, आक, धतूरा
2. भरणी : केला, आंवला
3. कृतिका : गूलर
4. रोहिणी : जामुन
5. मृगशीर्ष : खैर
6. आर्द्रा : आम, बेल
7. पुनर्वसु : बांस
8. पुष्य : पीपल
9. आश्लेषा : नागकेशर, चंदन
10. मघा : बरगद
11. पू.फा. : ढाक (पलास)
12. उ.फा. : बड़, पाकड़
13. हस्त : रीठा
14. चित्रा : बेल
15. स्वाती : अर्जुन
16. विशाखा : नीम, विकंक
17. अनुराधा : मौलसिरी
18. ज्येष्ठा : रीठा
19. मूल : राल वृक्ष
20. पू.षा. : मौलसिरी, जामुन
21. उ.षा. : कटहल
22. श्रवण : आक
23. धनिष्ठा : शमी/सेमर
24. शतभिषा : कदम्ब
25. पू.भा. : आम
26. उ.भा. : पीपल, सोनपाठा
27. रेवती : महुआ

No comments: